Punjab-Chandigarh

PUNJAB CM ROLLS OUT NEW INITIATIVE OF YOUTH CADRE TO FIGHT COVID UNDER MISSION FATEH2.0

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने गुरूवार को नौजवानों की सम्मिलन वाली एक नई शुरुआत की, जिससे ‘कोरोना मुक्त पंजाब अभियान’ के हिस्से के तौर पर राज्य के मिशन फ़तेह 2.0 को आगे बढ़ाया जा सके। उन्होंने कोरोना महामारी से लडऩे के लिए प्रति गाँव या प्रति नगरपालिका वॉर्ड में सात रुरल कोरोना वॉलंटियर (आर.सी.वी.) समूह गठित करने के निर्देश भी दिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर के दौरान गाँवों के बुरी तरह से प्रभावित होने के मद्देनजऱ यह ज़रूरी हो जाता है कि ‘कोरोना मुक्त गाँव’ के लिए एक मज़बूत मुहिम चलाई जाए। उन्होंने खेल एवं युवा मामले विभाग और जिलों के डिप्टी कमिश्नरों को यह हिदायतें दीं कि ऐसे आर.सी.वी. समूह तुरंत गठित किए जाएँ, जोकि कोरोना के खि़लाफ़ जंग में अहम योगदान दें। उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा क्लब भी आर.सी.वी. बन सकते हैं और इस तरह इनके द्वारा कोविड के खि़लाफ़ जंग में पंचायतों और नगरपालिकाओं को भरपूर मदद दी जा सकती है।
राज्य के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के नौजवानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों द्वारा दिए गए भरपूर समर्थन स्वरूप ही तीन हफ़्तों के दौरान राज्य में कोविड के मामले 9,000 से कम होकर 4,000 तक रह गए हैं, परन्तु इस बार ग्रामीण क्षेत्रों पर कोविड का ज़्यादा प्रभाव होने के कारण स्थिति अभी भी गंभीर है।
मुख्यमंत्री ने आर.सी.वीज़ को टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट (जाँच, पता लगाना और इलाज) सम्बन्धी लोगों को जागरूक करने, गरीब और बुज़ुर्ग व्यक्तियों की देखभाल करते हुए उनकी कोविड कंट्रोल रूम और हेलपलाइन से संपर्क को आसान बनाने, सभी गाँवों में ठीकरी पहरे लगाने, कोविड से बचाव के लिए सब नियमों का पालन करने, अच्छी इलाज सुविधाओं को हासिल करने में ग्रामीण लोगों की मदद करने, झोलाछाप डॉक्टरों से दूर रहने, कोवा ऐप डाउनलोड करने के अलावा बैनर और पैम्फलेट आदि प्रदर्शित करने का दायरा बढ़ाकर हर व्यक्ति तक पहुँचाने की जि़म्मेदारी सौंपी।
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि कोविड सम्बन्धी फैलाई जा रहीं अफ़वाहों और सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे झूठे प्रचार को रोकने के लिए नौजवानों द्वारा अहम भूमिका निभाई जा सकती है और इस महामारी के खि़लाफ़ लड़ते हुए एकजुट होकर पंजाब को बचाने के लिए राज्य सरकार उनकी पूरी मदद करेगी। मुख्यमंत्री ने स्टेरॉयड के ज़रूरत से अधिक इस्तेमाल के कारण फैल रही ब्लैक/व्हाइट फंगस की बीमारी के मद्देनजऱ आर.सी.वीज़ को ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के दरमियान कोविड के इलाज सम्बन्धी सभी निर्धारित नियमों का पालन करने संबंधी जागरूकता फैलाने पर भी ज़ोर दिया।
मुख्यमंत्री ने आज यह ऐलान किया कि युवा मामले विभाग द्वारा 1 लाख बैज और 1 लाख कार स्टिकर, जिन पर ‘मैं टीका लगवा चुका हूँ’ लिखा हो, बाँटे जाने की शुरुआत की जाएगी और उन्होंने आर.सी.वीज़ को कहा कि लोगों को टीकाकरण करवा लेने के बाद इस जानकारी को और लोगों को बताने के लिए प्रेरित किया जाए, जिससे अन्य लोग भी टीकाकरण के लिए आगे आएं।
कोरोना के खि़लाफ़ लड़ाई में रचनात्मक भूमिका निभाने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा हरेक आर.सी.वी को एक-एक स्पोट्र्स किट 12 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर दी जाएगी। इस मकसद के लिए उन्होंने खेल एवं युवा मामले विभाग को 15 हज़ार किटों की तुरंत खरीद करने के लिए भी कहा।
यह उम्मीद ज़ाहिर करते हुए कि मिशन 2.0 कोविड के खि़लाफ़ जंग में आखिरी मिशन सिद्ध होगा, मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही तीसरी संभावित लहर के लिए भी तैयार रहने का न्योता दिया। फ़ौज की मिसाल देते हुए उन्होंने कहा कि दुश्मन को कभी कमज़ोर नहीं समझना चाहिए और हमें लड़ाई के लिए सदा तैयार रहना चाहिए।
टीकों की कमी सम्बन्धी चिंता ज़ाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा सभी संभावित स्रोतों से टीके हासिल करने की कोशिश की जा रही है, क्योंकि ख़ासकर यू.के. की किस्म का तेज़ी से फैलने के कारण लोगों को यह एहसास हो रहा है कि सिफऱ् टीकाकरण ही इस महामारी से बचाव का रास्ता है। इसी कारण ही टीकों की माँग बढ़ रही है।
यह समागम सभी जिलों, उप मंडल मुख्य दफ़्तरों और 500 ग्रामीण एवं शहरी स्थानों पर एक ही समय प्रसारित हुआ और इसकी अध्यक्षता स्पीकर, डिप्टी स्पीकर, मंत्री, सांसद, विधायक, डिप्टी कमिश्नर, एस.डी.एम, मेयर, एम.सी. प्रधान, जि़ला परिषद् चेयरमैन और मैंबर एवं पंचायत समितियों/सरपंचों द्वारा की गई।
इस मौके पर नौजवान वर्ग में लोकप्रिय और राज्य की कोविड टीकाकरण मुहिम के ब्रांड एम्बेसडर फि़ल्म अभिनेता सोनू सूद ने ख़ासकर ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण की महत्ता से लोगों को अवगत करवाए जाने का न्योता दिया। उन्होंने कहा कि वह निजी तौर पर यह सुनिश्चित बनाने की कोशिश करेंगे कि राज्य को भारत बायोटैक से अधिक से अधिक संख्या में टीकों की सप्लाई मिल सके। उन्होंने सरकारी अस्पताल, मोगा में एक मैडीकल ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की भी इच्छा जताई।
स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने इस मौके पर ब्लैक फंगस के फैलने पर चिंता ज़ाहर की, जिसके इलाज के लिए राज्य के पास ज़रूरी 15 हज़ार ख़ुराकों (एक मरीज़ को 15 ख़ुराकों की ज़रूरत पड़ती है) की जगह सिफऱ् 1000 ख़ुराकें ही हैं। उन्होंने बताया कि 37 लाख घरों के 1.4 करोड़ व्यक्तियों की गाँवों में स्क्रीनिंग की जा चुकी है, जोकि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड के खि़लाफ़ चलाई जा रही मुहिम का हिस्सा है। उन्होंने यह भी बताया कि उपरोक्त में से 4 हज़ार व्यक्ति कोविड पॉजि़टिव पाए गए थे, जिनको प्रोटोकॉल के अनुसार मदद मुहैया करवाई गई, जब कि 462 मामूली गंभीरता वाले व्यक्तियों को एल-2 स्तर के संस्थानों में भेजा गया। ठीक होने के बाद कई मरीज़ों की मौत हो जाने की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि रोग की जल्द पहचान और इलाज यकीनी बनाने के लिए टेस्टिंग और सैंपलिंग में विस्तार किए जाने की ज़रूरत है। उन्होंने यह भी बताया कि 191 गर्भवती महिलाओं में इस रोग का पाया जाना चिंता का विषय है। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि ज़रूरत की अपेक्षा अधिक वसूली करने वाले कई अस्पतालों के खि़लाफ़ कार्रवाई की गई है और लोगों के पैसे वापस करवाए गए हैं।
इस मौके पर खेल एवं युवा सेवाएं मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने कहा कि राज्य के सभी 13,857 रजिस्टर्ड यूथ क्लबों की मदद ली जाएगी, जिससे अधिक से अधिक संख्या में टीकाकरण करवाने और इस महामारी से पीडि़त लोगों में समय रहते इलाज करवाने को अच्छी तरह प्रचारित किया जा सके। उन्होंने नौजवान वर्ग की इस बातों सराहना की कि इन्होंने कोरोना के घातक प्रभावों और स्वास्थ्य सम्बन्धी नियमों की पालना करवाने के लिए बीते वर्ष हर घर का दरवाज़ा खटखटाया था।
पंजाब यूथ कांग्रेस के प्रधान बरिन्दर सिंह ढिल्लों ने कहा कि राज्य के नौजवान, पार्टी के ‘फज़ऱ् मानवता के लिए’ अभियान के अंतर्गत जि़म्मेदारी तन-मन से निभाने के लिए तैयार हैं, परन्तु सरकार द्वारा उनके किए कार्यों को मान्यता दी जानी चाहिए।
मुख्य सचिव विनी महाजन ने इस मौके पर कहा कि नौजवानों के जोश का इस्तेमाल कोरोना संकट के मुकाबले के लिए किया जा सकता है और उनकी तरफ से गाँवों में रहने वाले लोगों को टीकाकरण करवाने और सही इलाज के लिए आगे आने हेतु प्रेरित करने में अहम भूमिका निभाई जा सकती है।
पंजाब सरकार के स्वास्थ्य सलाहकार डॉ. के.के. तलवाड़ ने कहा कि नौजवान वर्ग द्वारा सरकारी समुदाय/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों से सही समय पर इलाज/टेस्टिंग करवाने के लिए गाँवों के लोगों को प्रेरित करके कोविड-19 पर नकेल कसने में महत्वपूर्ण किरदार निभाया जा सकता है। इसके अलावा नौजवानों द्वारा ख़ासकर ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज न करवाने सम्बन्धी भी जागरूक किया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button